201903131814070.capt_v_batra.png?sno=21 

 
कैप्टन विक्रम बत्रा, परम वीर चक्र (मरणोपरांत)
आपरेशन विजय के दौरान 13 जैक राइफल्स के कैप्टन विक्रम बत्रा को प्वाइंट 5140 पर कब्जा करने का कार्य सौंपा गया। दस्ते का नेतृत्व करते हुए उन्होंने निडरतापूर्वक आमने-सामने की लड़ाई मे चार शत्रु सैनिकों को मार गिराया। 07 जुलाई 1999 को उनकी कंपनी को प्वाइंट 4875 पर कब्जा करने का कार्य सौंपा गया। आमने-सामने की भीषण मुठभेड़ में उन्होंने पांच शत्रु सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया। गंभीर रूप से जख्मी हो जाने के बावजूद, उन्होंने जवाबी आक्रमण मे अपने सैनिकों का नेतृत्व किया और वीरगति प्राप्त करने से पहले दुश्मनों की भीषण गोलाबारी के बीच सैन्य दृष्टि से असंभव कार्य को सफलतापूर्वक अंजाम दिया। उनके इस निडरतापूर्ण कार्य से प्रेरित होकर उनके जवानों ने शत्रु का सफाया करते हुए प्वाइंट 4875 पर कब्जा कर लिया। उत्कृष्ट वीरता, प्रेरणादायक नेतृत्व, अदम्य साहस तथा सर्वोच्च बलिदान के लिए कैप्टन विक्रम बत्रा को मरणोपरांत परम वीर चक्र से सम्मानित किया गया। 

 
CAPTAIN VIKRAM BATRA, PARAM VIR CHAKRA (POSTHUMOUS)
During Operation Vijay, Captain Vikram Batra of 13 JAK RIF, was tasked to capture Point 5140. Leading from the front, in a daring assault, he killed four enemy troops in close combat battle. On 07 July 1999, his company was tasked to capture a feature on Point 4875. In a fierce hand-to-hand fight, he killed five enemy soldiers. Despite sustaining grave injuries, he led his men from the front and pressed on the attack, achieving virtually impossible task in the face of heavy enemy fire, before attaining martyrdom. Inspired by his courageous act, his troops annihilated the enemy and captured Point 4875. For exhibiting an act of conspicuous gallantry, inspiring leadership, indomitable courage and supreme sacrifice, he was awarded the Param Vir Chakra (Posthumous).