201903131810430.rfn_sanjay_kumar.png?sno=20&languages_mural_langOrder=Sorter_lang&languages_mural_langDir=ASC 

 
राइफलमैन संजय कुमार, परम वीर चक्र
ऑपरेशन विजय के दौरान राइफलमैन संजय कुमार 13 जम्मू कश्मीर राइफल्स की एक कंपनी के लीडिंग स्काउट में शामिल थे जिन्हें 04 जुलाई 1999 को जम्मू और कश्मीर की मश्कोह घाटी में फ्लैट टॉप क्षेत्र पर कब्जा करने के लिए भेजा गया था। चोटी पर पहुंचने के बाद वह शत्रु सेना के एक बंकर से की जा रही जबर्दस्त गोलाबारी की चपेट में आ गए। आमने-सामने की लड़ाई मे उन्होंने तीन घुसपैठियों को मार गिराया और स्वयं भी गंभीर रूप से घायल हो गए। इस कार्रवाई से दुश्मन के सैनिक बिल्कुल अचंभित रह गए और एक यूनीवर्सल मशीन गन पीछे छोड़कर भागने लगे। राइफलमैन संजय कुमार ने वह यूनीवर्सल मशीनगन उठाई और भागते दुश्मनों को मार गिराया। उनकी इस साहसपूर्ण कार्रवाई से उनके साथियों को प्रेरणा मिली और उन्होंने दुश्मन पर धावा बोल कर अंततः फ्लैट टॉप क्षेत्र पर कब्जा कर लिया। उच्च कोटि की वीरता और अदम्य साहस का प्रदर्शन करने के लिए राइफलमैन संजय कुमार को परम वीर चक्र से सम्मानित किया गया। 

 
RIFLEMAN SANJAY KUMAR, PARAM VIR CHAKRA
During Operation Vijay, Rifleman Sanjay Kumar was the leading Scout of a company of 13 JAK RIF for the capture of area Flat Top on 04 July 1999 in Mushkoh Valley, Jammu & Kashmir. Having scaled the cliff, he came under effective enemy fire from a bunker. In the ensuing hand-to-hand combat, he killed three of the intruders and was himself seriously injured. Taken totally by surprise, the enemy left behind a Universal Machine Gun and started running. Rifleman Sanjay Kumar picked up the UMG and killed the fleeing enemy. The brave action on his part motivated his comrades to charge on to the enemy and capture area Flat Top. For exhibiting an act of indomitable courage and gallantry of the highest order, he was awarded the Param Vir Chakra. 
  
Audio Clips
Ascending
Assamese  Bengali  English  Garo  Gujarati  Hindi  Kannada  Kashmiri  Khasi  Konkani  Malyalam  Manipuri  Marathi  Mizo  Nagamese  Nepali  Odia  Punjabi  Tamil  Telugu  Urdu